Maya Angelou — Sunshiny SA Site

I have learned that people will forget what you said, people will forget what you did but people will never forget how you make them feel… via Maya Angelou — Sunshiny SA Site

Advertisements

लखलख चंदेरी तेजाची न्यारी दुनिया —

आपण लहान असताना आपल्या फटाके उडवण्यावर तसे कुठले निर्बंध नव्हते, आपण अगदी मुक्तपणे पाहिजे तेवढे फटाके उडवले. मी दिवाळीत फटाके उडवत असतानाच घरी आलेला एखादा नतद्रष्ट नातेवाईक (बहुतेक मामाच) घरच्यांच्या समोर ‘आत्ता फटाके उडवताय पण खरे फटाके शाळा सुरू झाल्यावर उडतीलच’ अशी शापवाणी उच्चारून जायचा. तरी मी फटाके उडवल्याशिवाय कधी राहिलो नाही (आणि पुढच्या गोष्टीही […]… Continue reading लखलख चंदेरी तेजाची न्यारी दुनिया —

काश्मीर : सर्वांगीण अनास्थेचा बळी – संजय सोनवणी

(आज ६ ऑक्टोबर रोजी दिव्य मराठीत प्रसिद्ध) सातव्या शतकापासून ते जवळपास बाराव्या शतकापर्यंत संपुर्ण भारताचेच नव्हे तर तिबेटचेही धार्मिक, वैचारिक, साहित्यिक आणि अगदी राजकीयही नेतृत्व करणारा काश्मिर आज असा का आहे हा गंभीर प्रश्न असून त्याची मानसशास्त्रीय कारणे शोधत त्यावर उपाय काढले नाहीत तर अन्य सारे राजकीय व शस्त्रबळावर केले जाणारे प्रयत्न अयशस्वी ठरतील. काश्मिरी… Continue reading काश्मीर : सर्वांगीण अनास्थेचा बळी – संजय सोनवणी

दिमाग का लोच्या — अल्फ़ाज़ में नुमायाँ वज़ूद © RockShayar Irfan Ali Khan

इंसानी खोपड़ी भी क्या कमाल की चीज है दिमाग को सुरक्षित रखती, ये वो चीज है मात्र 29 हड्डियों से अपुन की खुपड़ियां बनी हैं 8 कपाल से, 14 चेहरे से, 6 कान से जुड़ी हैं कपाल में ही तो छुपा असली माल है साला 1400 ग्राम का दिमाग़, मचाता कितना बवाल है खरबों न्यूरॉन्स […]… Continue reading दिमाग का लोच्या — अल्फ़ाज़ में नुमायाँ वज़ूद © RockShayar Irfan Ali Khan

सच बोलने की हमें अब वो आदत ना रही — अल्फ़ाज़ में नुमायाँ वज़ूद © RockShayar Irfan Ali Khan

निगाहों में अब वो हसरत ना रही पहले सी अब वो मोहब्बत ना रही कोई भी नहीं जान पाया इस सच को के सच बोलने की हमें अब वो आदत ना रही via सच बोलने की हमें अब वो आदत ना रही — अल्फ़ाज़ में नुमायाँ वज़ूद © RockShayar Irfan Ali Khan

कुछ ढ़ूँढ़ता हूँ मैं. — सच्चिदानन्द सिन्हा

तन्हा कभी जब बैठ गुमसुम, सोंचता हूँ मैं । सदियों पुराने गाँव में, कुछ ढूँढ़ता हूँ मैं ।। अपने गाँव की गलियां, कीचड़ से भरे नाले। मिट्टी की बनी दीवार को ,भी ढूँढ़ता हूँ मैं ।। घर के सामने बैठी, गोबर सानती दादी । उपले थापती दीवार पर भी, देखता हूँ मैं ।। स्नेह से […]… Continue reading कुछ ढ़ूँढ़ता हूँ मैं. — सच्चिदानन्द सिन्हा

भाजपचे महात्मा गांधी व्हाया संघ! — असंतोष

संजय सोनवणी महात्मा गांधी आजही जगभरच्या लोकांवरच नव्हे तर आंतरराष्ट्रीय नेत्यांवर प्रभाव टाकुन असणारे एक आदरणीय व्यक्तीमत्व आहे. जगभरच्या स्वातंत्र्य लढ्यांना अहिंसा आणि सत्याग्रहाच्या अभिनव हत्याराने झुंजण्याचे आत्मीक बळ गांधीजींनी दिले. सहनशीलता आणि सहिष्णुता त्यांच्या जीवनाचा एक अतुट भाग होता. आता भारतात भारतीय जनता पक्षाचे सरकार आहे. भाजप हा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघाची पोलिटिकल विंग आहे […]… Continue reading भाजपचे महात्मा गांधी व्हाया संघ! — असंतोष

रोझा पार्क

 रोझा पार्क की 13 वीं की जयंती 24 अक्टूबर को है। यह लेख रोझा पार्क के बारे में जानकारी देता है, जिसे मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की मां माना जाता है  मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की मां रोझा पार्क अकेले मेरे कुछ करनेसे क्या हो जायेगा? यह आपका सामान्य सवाल है। जवाब रोझा पार्क की कहानी में पाया जा… Continue reading रोझा पार्क