जीवन में बचाने लायक क्या है ? — Atul Kumar Rai

एक मित्र बड़े परेशान रहते थे कि नौकरी नहीं है और जिम्मेदारी चक्रवृद्धि ब्याज की तरह बढ़ रही है। बाल पक गए,शादी न हुई,घर भी नहीं बना,सब डिग्री और योग्यता माटी में मिली जा रही है। मित्र दिन-रात मेहनत करते।शहर के सभी मंदिरों में दीप और धूप जलाकर नौकरी की माला जपते। उम्मीदों का रोज…

via जीवन में बचाने लायक क्या है ? — Atul Kumar Rai

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s