या तुम थी ?

 

ये मेरे बिस्तर पे सिलवटें कैसी, रात का जादू था, या तुम थी ? आ रही है जाबाज़ा दिलरूबा खुशबू, रात का जादू था, या तुम थी ? इत्र से भीगे मोहब्बत में, हर सांस से पिघल गया तन | लोहा पिघल मोम हुआ ज़मीन पर, रात का जादू था, या तुम थी ? कितने […]

via या तुम थी ? — Agastya Kapoor की दुनिया

1 thought on “या तुम थी ?”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.