ज़िंदगी हमे ये कहाँ ले आयी ?

ज़िंदगी हमे ये कहाँ ले आयी ? खुश थे जहाँ से ले आयी | गुज़रे दिनों की धुप थी क़बूल, क्यों बारिश कहाँ से ले आयी ? किसी अटके हुए पल की तरह | किसी माथे की बल की तरह | किसी सवाल-ए-बेहाल की तरह| किसी जले हुए काल की तरह | गोया खींच के वहाँ से […]

via ज़िंदगी हमे ये कहाँ ले आयी ? — Agastya Kapoor की दुनिया

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.